INDIA NEWS क्या सच में Sachin Pilot’s के साथ 12 से ज्यादा MLA हे?

क्या सच में Sachin Pilot’s के साथ 12 से ज्यादा MLA हे?

क्या सच में Sachin Pilot’s के साथ 12 से ज्यादा MLA हे?

Sachin Pilot

राजस्थान : राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार अचानक संकट में आ गई हे । उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट सीएम गहलोत से बोहत नाराज हैं। वर्तमान में, सचिन पायलट अचानक दिल्ली पहुंच गऐ है। उनके साथ कुछ विश्वसनीय विधायकों के होने से कांग्रेस में बोहत खलबली मच गई है। दूसरी ओर, रिपोर्ट में कहा गया है कि सचिन पायलट भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं के संपर्क में थे और देश में एक राजनीतिक संकट पैदा कर दिया हे।

राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट सहित बारह कांग्रेस और तीन अपक्ष विधायक को दिल्ली और हरियाणा के एक होटल में ठहरे थे ऐसी माहिती मिली हे। असंतुष्ट विधायक अपना मामला सोनिया गांधी के सामने पेश कर सकते हैं और इसे लिए उनसे समय मांगा गया है। अब ऐसीबी खबरें हैं कि सचिन पायलट भाजपा नेताओं के संपर्क में हैं।

सचिन पायलट के पास 12 नहीं बल्कि 30 विधायकों के होने से कांग्रेस हिल गई हे। सिर्फ यही नहीं, कांग्रेस के 30 विधायकों के अलावा भी, कुछ अन्य अपक्ष विधायक भी पायलट के समर्थन कर रहे हैं। सब विधायक पायलट के कोई भी निर्णय में उनके साथ रहने के लिए तैयार हैं। सचिन पायलट ने भाजपा के 15 विधायकों के समर्थन का भी दावा किया है।

इसके अलावा, सचिन पायलट को राजस्थान बीजेपी के 15 विधायकों का समर्थन मिलने का भी दावा गया है। इसी तरह, पायलट को भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं के संपर्क में भी हे ऐसा कहा गया है। इस प्रकार, सचिन पायलट के पास 30 उपरांत भाजपा और अपक्ष के 15 विधायकों समर्थन प्राप्त है। ऐसी स्तिति में, सचिन पायलट का एक भी निर्णय कांग्रेस को महंगा पड़ सकता है। पायलट के एक इसारे से, अशोक गहलोत मुख्यमंत्री के रूप में अपना पद खो सकते हैं और राजस्थान सरकार का बदल सकती है।

सोनिया गांधी ने ऑब्जर्वर को जयपुर भेजा

खबरों के मुताबिक, असंतुष्ट कांग्रेस विधायक पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिल सकते हैं और उनसे मिल सकते हैं ऐसा कहा जा रहा हे। इसके लिए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से समय मांगा गया है। इस राजनीतिक उथल-पुथल की स्थिति को नियंत्रण में लेने के लिए वरिष्ठ नेताओं अजय माकन और हाईकमान से रणदीप सुरजेवाला को ऑब्जर्वर के रूप में भेजा गया है और वह जयपुर में विधायकों के साथ बातचीत करेंगे।

खबरों के मुताबिक सचिन पायलट इस बात से नाराज हैं कि एसओजी ने नोटिस भेजा है। विधायकों की हॉर्स ट्रेडिंग के मामले में यह नोटिस जारी किया गया है तथा इस वजह से उनसे पूछताछ की जाएगी। यहां तक ​​कि सचिन पायलट के समर्थक भी नोटिस से परेशान हैं। गृह विभाग के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इसका नेतृत्व कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब सभी सीमा को पार कर लिया गया है, और उनके साथ काम करना असंभव है।

Previous articleVivo Upcoming Mobile in India 2020
Next articleअमिताभ बच्चन लेटेस्ट न्यूज़, नानावती अस्पताल द्वारा दिए गए स्वास्थ्य अपडेट

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here