क्या आप लोकडाउन के चलते बोर हो चुके हो? डोमेस्टिक टूररिस्ट के लिए आ गये हे गुड न्यूज़।

क्या आप लोकडाउन के चलते बोर हो चुके हो? डोमेस्टिक टूररिस्ट के लिए आ गये हे गुड न्यूज़।

Tourism Open in India
  • गोवा आने से पहले कोरोना का परीक्षण करवाने की आवश्यक है, यदि नहीं करवाया हे, तो कोरोना परीक्षण सीमा पर किया जाएगा
  • जम्मू और कश्मीर और महाराष्ट्र में जल्द ही पर्यटन स्थल खोलने की तैयारी में है, दोनों राज्यों का मार्गदर्शिका बनाने पर काम चल रहा है।
  • कर्नाटक के अन्य राज्यों तथा अन्य जिलों के पर्यटकों पर प्रतिबंध लगाया गया है, अगर वे आते हैं, उन पवे कानूनी कार्रवाई होगी।

दिल्ही : पर्यटन उद्योग, जो कोरोना वायरस के कारण चार महीने से बंद हालत में था, अब धीरे-धीरे फिर से खुल रहा है। 6 जुलाई से, सरकार ने ताजमहल, कुतुब मीनार, लाल किला, सांची स्तूप जैसे देश भर के सभी स्मारकों को पर्यटकों के लिए खोलने की अनुमति दी है। हालांकि, उसका अंतिम निर्णय राज्य सरकारों के पास है। 17 मार्च के बाद से, देश के सभी 3,691 स्मारकों को कोरोना वायरस के कारण बंद कर दिया गया था।

अभी बोहत राज्यों की सीमाएँ डोमेस्टिक पर्यटकों के लिए खुल गई हैं, लेकिन पर्यटकों के वहा जाने के लिए कुछ शरते हैं।

5 राज्यों ने डोमेस्टिक टूरिस्ट के लिए अनुमति दी

1) गोवा: आने से पहले कोरोना टेस्ट करवाना आवश्यक है

पर्यटन मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, डोमेस्टिक और विदेशी टूरिस्टस के पसंद में गोवा टॉप – 10 में भी फ़िलहाल नहीं है। हालांकि, गोवा जाना हर किसी का अपना सपना होता है। गोवा ने अप्रैल में खुद को कोविद मुक्त राज्य घोषित कर दिया था, लेकिन उसके बाद कोरोना पेशन्ट की संख्या में अचानक ही वृद्धि हो रही है।

गोवा सरकार ने अन्य राज्यों के पर्यटकों के लिए एसओपी की भी घोषणा कर दी है। एसओपी के मुताबिक, केवल डोमेस्टिक टूरिस्टस जो पहले से ही होटल बुक करवा चुके हैं, वे यहां के होटलों में रुक पाएंगे।

इसके अलावा दूसरे राज्यों के टूरिस्टस को कोरोना की रिपोर्ट अपने साथ लानी होगी। यदि कोरोना परीक्षण नहीं किया गया है, तो उनका सीमा पर परीक्षण किया जाएगा। कोरोना रिपोर्ट नकारात्मक होने पर ही उनको प्रवेश दिया जाएगा। यदि परीक्षण सकारात्मक आता है, तो उस टूरिस्टस को गोवा में इलाज किया जाएगा या तो वो जिस राज्य से हे उस राज्य में वापस भेज दिया जाएगा।

गोवा में कोरोना की स्थिति: गोवा में अब तक 2039 कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। जिसमें से 1207 मरीज अभी ठीक हो चुके हैं। गोवा राज्य में अभी 824 सक्रिय मामले हैं, जबकि 8 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

2) उत्तराखंड: रिपोर्ट नकारात्मक होने पर ही एन्ट्री मिलेगी, अन्यथा कोरन्टाइन रहना पड़ेगा

उत्तराखंड सरकार ने डोमेस्टिक टूरिस्टस के लिए अपनी सीमाएँ खोल दी हैं। हालांकि, दूसरे राज्यों के टूरिस्टस को कोरोना की नकारात्मक रिपोर्ट लानी होगी। रिपोर्ट नकारात्मक होने पर ही उसे राज्य में जाने की अनुमति दी जाएगी।

यदि कोई पर्यटक राज्य में आना चाहता है, लेकिन कोरोना परीक्षण रिपोर्ट नहीं लाया है, तो उसे 7 दिनों के लिए होटल में कोरोंटाइन रहना होगा और उसको उसकेलिये होटल खुद बुक करना होगा।

चार धाम गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ भी राज्य में खोले दिए गए हैं। लेकिन यहां मंदिर की मूर्ति को नहीं छुआ जा सकता है और ना तो वे घंटी भी बजा सकते। यहां आने वाले तीर्थयात्रियों को प्रसाद नहीं मिलेगा।

उत्तराखंड कोरोना की स्थिति: उत्तराखंड में कोरोना रोगियों की संख्या 3258 तक पहुंच गई है। हालांकि, उनमें से 2650 लोग ठीक होके वापस घर लौट आए हैं। 46 लोग कोरोना की वजह से मारे गए हैं। यहां सक्रिय मामलों की संख्या अब 562 रह गई है।

3) राजस्थान: मास्क पहनना जरुरी हे, एक समूह में 5 से अधिक नहीं

राजस्थान में अनलॉक -1 के दौरान, कई पर्यटन स्थल पर्यटकों के लिए खोल दिए गए हे। यहां 342 स्मारक हैं, जो 18 मार्च से बंद किये गए थे। यहां पर्यटकों की संख्या बढ़ाने के लिए पहले दो सप्ताह तक किसी भी पर्यटक स्थल पर कोई शुल्क नहीं लिया गया था।

राजस्थान आने वाले पर्यटकों के लिए एसओपी की भी घोषणा की गई हे। यहां के हर पर्यटन स्थल की सफाई बोहत जरूरी है। इसके अलावा, स्मारकों या पर्यटन स्थलों पर जाने वाले हर पर्यटक की थर्मल स्क्रीनिंग भी बोहत आवश्यक है। इसके अलावा, अगर किसी समूह में लोग आते हैं, तो एक समूह में 5 से जायदा लोग नहीं होने चाहिए।

4 ) मध्य प्रदेश: एक कार में 4 से जयादा लोग नहीं

मध्य प्रदेश में नेशनल पार्क कोरोना के कारण बंद किया गया था जो 15 जून से पर्यटकों के लिए खोला गया है। मध्य प्रदेश में 11 नेशनल पार्क और 24 वन्यजीव अभयारण्य हैं। अन्य राज्यों के पर्यटक भी तीन से चार दिन या तो वीकएंड पर यहां पे आ सकते हैं।

हालांकि, यहां आने के लिए एसओपी भी है। केवल होटल में ही रुकना होगा। मास्क पहनना और सामाजिक दूरी का ध्यान रखना बोहत ही आवश्यक होगा। इसके अलावा, पर्यटन स्थल के गेट पर स्क्रीनिंग की जाएगी और केवल स्वस्थ लोगों को ही उसमे प्रवेश दिया जाएगा।

जो कार रेजिस्ट्रेशन केवल टूर के लिए तथा एक ही परिवार के 6 सदस्य हैं तो बैठ सकते हैं। लेकिन अगर अलग-अलग परिवार के हैं तो, केवल 4 लोग बैठ सकते हैं। इसके अलावा, टूर वाहनों को अक्सर सैनिटाइज़ किया जाएगा और उन जगहों पर जहां पर्यटकों को एकत्र हो, उन्हें भी अक्सर सैनिटाइज़ किया जाएगा।

मध्य प्रदेश में कोरोना की स्थिति : अब तक 16 हजार 36 कोरोना मरीज पाए गए हैं, जिनमें से 11 हजार 987 मरीज ठीक हुवे हैं। यहां कोरोना की वजह से 629 लोगों की मौत हो गई है। अभी 3 हजार 420 कोरोना के सक्रिय मामले हैं।

5) हिमाचल प्रदेश : कोरोना की रिपोर्ट नकारात्मक होनी चाहिये

हिमाचल प्रदेश की सरकार ने अभी पर्यटकों के प्रवेश पर प्रतिबंध हटा दिया है। हालांकि, पर्यटक कब यहां आ पाएंगे, इसके लिए अभी तक कोई तारीख तय नहीं की गई है। फिर भी, सरकार द्वारा पर्यटकों के लिए एक एसओपी घोषित कर दि है।

एसओपी के अनुसार, जो पर्यटक राज्य में आएंगे, उनकी कोरोना रिपोर्ट नकारात्मक होनी चाहिए। कोरोना परीक्षण कम से कम 72 घंटे पहले किया होना चाहिए। इसके अलावा, होटल को 5 दिन पहले बुक करना आवश्यक होगा और पर्यटकों को कम से कम 5 दिनों के लिए होटल में रहना होगा।

Previous articleक्या गोरी त्वचा और ग्लोइंग स्किन पाना चाहते हे? सप्ताह में हर दिन का अलग अलग फेस मास्क, जरूर आजमाएं
Next articleक्या आप जानते हे की कोनसे लक्षणों वाली महिलाओं के पीछे खुशी और समृद्धि भागते हुवे आती है?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here