चंद्रयान 2 (Chandrayaan 2) : रोवर ‘प्रज्ञान’ ने चन्द्रमा पे सेफ लैंडिंग की थी, तशवीर में हुवे चौकाने वाले खुलासे

चंद्रयान-2 (chandrayaan-2) : रोवर 'प्रज्ञान' ने चन्द्रमा पे सेफ लैंडिंग की थी, तशवीर में हुवे चौकाने वाले खुलासे

Chandrayaan 2 Vikram Lander Rover Prgyan

शनमुगा सुब्रमण्यम, जिन्होंने पिछले साल चंद्रमा पर भारत के चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) मिशन के विक्रम लैंडर की खोज की थी। उन्होंने सभावना व्यक्त की हे की चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) का रोवर ‘प्रज्ञान’ चद्रमा पे सही सलामत उतरा था।

पिछले साल 22 जुलाई को, भारत ने अपना महत्वाकांक्षी चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) मिशन को लॉन्च किया था और ISRO (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) ने अपने चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) मिशन अंतरिक्ष यान को चंद्रमा के अंधेरे वाले जगह पे भेजा था।

हालाँकि चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) मिशन का विक्रम लैंडर उम्मीद के मुताबिक चंद्र की सतह पर आराम से नहीं उतर सका था और धरती से इसका संपर्क टूट गया था।

चेन्नई के एक इंजीनियर शनमुगा सुब्रमण्यम ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA (नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन) की भेजी हुवी तस्वीरों को देखने के बाद चंद्र की धरती पर चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) के विक्रम लैंडर (Vikram Lander) की खोज करली थी। इन तस्वीरों में जो दिखाई दिया था उसे विक्रम लैंडर (Vikram Lander) का मलबा माना गया।

अभी LRO की नवीनतम तस्वीरें दिखाती हैं कि विक्रम की लैंडिंग ऐसे वैसे नहीं हुवा हे, यह संभव है कि चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) का रोवर प्रज्ञान (Rover Pragyan) पूरी तरह से सुरक्षित चंद्रमा की सतह पर उतरा था। शान ने एक इंटरव्यू में इस बारे में कई सारे खुलासे किए हे।

शाने विक्रम रोवर (Vikram Lander) का पत्ता लगया था

पिछले साल, NASA के LRO (लूनर रेकॉन्सेन्स ऑर्बिटर) ने उस जगह की तीन तस्वीरें लीं, जहां लैंडर और उसका मलबा मिला था।

17 सितंबर, 14 अक्टूबर और 11 नवंबर को LRO द्वारा लिए गए चित्रों में लैंडिंग साइट पर पाए गए निशान को विक्रम लैंडर (Vikram Lander) का मलबा हे ऐसा तस्वीरों में माना गया था।

शान ने खुद चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) मिशन का विक्रम लैंडर (Vikram Lander) को LRO की तस्वीरों में देखा, जिसकी पुष्टि नासा ने की और उन्हें धन्यवाद भी दिया था।

नई तस्वीरों ने किया स्तब्ध

शान का कहना हे की जब मैंने इस साल 4 जनवरी को ली गई तस्वीरों को देखा, तो मैंने उसमे कुछ अलग देखा।

इस बार चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) का विक्रम लैंडर (Vikram Lander) कुछ और दिखाई दिया जो पहले की तुलना में कुछ अलग था।

शान का मानना ​​है कि इस विक्रम लैंडर (Vikram Lander) के भीतर मौजूद रोवर प्रज्ञान (Rover Pragyan) था। यह पहली बार हुवा हे की मलबे को छोड़कर इस क्षेत्र में कुछ अलग इन तस्वीर में दिखाई दीया है।

रोवर प्रज्ञान (Rover Pragyan) था कहा

वास्तव में जहां विक्रम लैंडर (Vikram Lander) को जहा उतरा था वहा पे प्रकाश बहुत कम होती हे। इससे पहले, जब LRO ने चंद्र के उस क्षेत्र की तस्वीरें लीं थीं, तो कम रोशनी और सूर्य के विभिन्न कोणों के कारण रोवर दिखाई नहीं दे रहा था।

इस बारे में शान का कहना है कि इस बार चंद्रमा की ओर से प्रकाश पहले की तुलना में अधिक था और विभिन्न कोणों से यह प्रकाश रोवर से टकरा गया और इस प्रतिबिंब के कारण इस बार देखा जा सकता है। शान ने इसरो और नासा को इस बारे में जानकारी दी है और पुष्टि की प्रतीक्षा है।

तस्वीर में पहले क्या दिखा था?

चंद्रयान-2 (Chandrayaan-2) में कुल 13 पेलोड थे, जिनमें से 3 लैंडर पर और 2 रोवर पर थे। शान का कहना है कि NASA और उसने पहले जो मलबा देखा था वह एक ही पेलोड हो सकता है।

शान का कहना है कि उसने जो पहले मलबा देखा था, वह लंगमुर प्रोब का हो सकता हे। NASA ने जो मलबा देखा वो लैंडर का एंटीना, दूसरा पेलोड, रेट्रो ब्रेकिंग इंजन या सौलर पैनल हो सकता है।

तो क्या प्रज्ञान सुरक्षित है?

क्या खास बात है कि विक्रम लैंडर ने चंद्र की सतह पर रफ लैंडिंग किया था, क्रैश लैंडिंग नहीं। यही है, एक संभावना है कि अगर लैंडर ने सतह पर बुरी तरह से पटक्या हो और फिर संचार बंद हो गया लेकिन रोवर प्रज्ञान उसके अंदर सुरक्षित रहा हो।

यह हो सकता है कि बाद वाले प्रोग्राम किए गए तरीके से रोवर प्रज्ञान बहार निकला हो और थोड़ा आगे बढ़ गए। शान का कहना है कि सतह से टकराने के कारण रोवर लैंडर से बाहर फेंके जाने की संभावना कम है।

यह संभव है कि रोवर लैंडर से ठीक से बाहर आए। ऐसा इसलिए क्योंकि तस्वीरों में लैंडर और रोवर के बीच का ट्रैक देखा जा सकता है। यदि रोवर टकरा गया और टूट गया तो इस तरह के ट्रैक के होने की संभावना कम थी।

हालांकि, शान का कहना है कि केवल नासा या इसरो ही इसकी पुष्टि कर सकते हैं।

Previous articleTesty Pav Bhaji Recipe: Pav Bhaji Kaise Banaye : पाव भाजी कैसे बनाये
Next articleकोरोना टेस्ट के बहाने युवती के गुप्त भाग से लिया सेम्पल, उसके के बाद जो हुवा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here